Follow Us
  • SIGN UP
  • tumbhi microsites
tumbhi microsites

writingTumhein jo dekhun

तुम्हें जो देखूँ
=============

मेरी बेचैनियाँ घट जाती हैं

मिलूँ  जो तुमसे

तुम्हें जो देखूँ

**********
घुटती साँसें भी दम पाती हैं

खुद को कहूँ  जो तुमसे

तुम्हें जो देखूँ

**********

उदासियाँ ताली बजाती हैं

कुछ सुनूँ  जो तुमसे

तुम्हें जो देखूँ

**********
बीती  कहानियाँ भी गुनगुनाती हैं

कुछ पूछूँ जो तुमसे

तुम्हें जो देखूँ

**********
यादें तुम्हें दोहराती हैं

बिछड़ूँ जो तुमसे

तुम्हें जो देखूँ

**********
आँखें मुस्कराती  हैं

फ़िर मिलूं जो तुमसे

तुम्हें जो देखूँ

**********

मेरी बेचैनियाँ घट जाती हैं

मिलूँ  जो तुमसे

तुम्हें जो देखूँ

happen so many things together,when i see you

Report Abuse

Please login to report abuse.
Click on the Report Abuse button if you find this item offensive or humiliating. The item will be deleted/blocked once approved by the admin.

Writing by

Vivek Ratan

Likes

0

Views

2

Comments

0

View More from me

You May Also Like

GO