Follow Us
  • SIGN UP
  • tumbhi microsites
tumbhi microsites

writingTere samne

तेरे सामने कभी ना आया

                 बिन शतँ  के  तुझे चाया

" तुझे होगा ना  कभी मालूम

          इक दिल था कोई पागल !

          इक दिल था कोई पागल !

 

ऐसा नही , तुझे पाना ना था

ऐसा नही , साथ रहना ना था

सोचे  जो  हम , मिल जाऐ जो

         जिंदगी का ऐसा  इरादा ना था

" तुझे पाना ना , तुझे  कहना  ना था

         फिर भी तुझे चाहना ही था_______2

 

तेरे सामने कभी ना आया

       बिन शतँ के तुझे चाया

तुझे होगा कभी ना मालूम

     इक दिल था कोई पागल !

    इक दिल था कोई पागल !

 

Mystery love

Report Abuse

Please login to report abuse.
Click on the Report Abuse button if you find this item offensive or humiliating. The item will be deleted/blocked once approved by the admin.

Writing by

navdeep singh

Likes

0

Views

2

Comments

0

View More from me

You May Also Like

GO