Follow Us
  • SIGN UP
  • tumbhi microsites
tumbhi microsites

writingShayari

OK 

दरद तो बहुत लोगो को दिया होगा कबी खुद ने दरद देखा ह लोग कहते ह साएर पागल ह कबी पागल बन के देखा तू समज ले ये तन तो किराऐ का मकान ह ये दोलत सोरत तब तक ह जब तक तन मे जान ह ये तन तो पचन दिनो का महमान ह

Report Abuse

Please login to report abuse.
Click on the Report Abuse button if you find this item offensive or humiliating. The item will be deleted/blocked once approved by the admin.

View More from me

You May Also Like

GO