Follow Us
  • SIGN UP
  • tumbhi microsites
tumbhi microsites

Writing

                                               FALSE & TRUE
Sc-01
INT. Office's Room -  Night
(Room ka scene.Table par bahut sare magazine aur news paper pade hote hai.Sath he 2-3 book pade hote hai,jo cancer aur aids related hota hai.Magazine ke cover photo mein kabeer narang ki photo lagi hoti hai.News paper mein bhi narang ki photo hoti hai.'How to success kabeer narang' or 'From to top' or 'journey from simple to billionare-kabeer narang' etc likhe hote hai.Tabhi hawao ka ek jhoka chalta hai aur window khul jati hai.Hawao ke wajah se kuch newspaper edhar-udhar bikhar jate hai.Fir ek newspaper jo niche giri hoti hai.Usme kabeer narang ki dr. Pallavi narang se shaadi ki photo lagi hoti hai.)
                                                               Cut to-

sc-2
INT. Room- Night
Character-Kabeer & Pallavi
(pallavi ke dono hath-per bandhe hote hai.Wo niche jamin par bethi hoti hai.Kabeer ushe khana khila raha hota hai.)
                                                                  Kabeer
zindagi ka ek sabse bada fact hai.Karm karte jaiye...karte jaiye...karte jaiye...Par Fal ki kvi chinta na kijiye...Pure 6 saal ho gaye hai...Ab ni to kab milega...Jaha bhi jao sab ek he baat puchte
hai-Apke kitne bacche hai...?Jab se zindgi se jitna sikha hun kabhi haar nahi dekha...Par sirf tumhari wajah se mujhe esh zindgi se haarna padta hai...Sirf tumhari wajah se mein baap nahi ban paya...

                                                                  Pallavi
                              ye kyun nahi kahte ki tum uske laayak nahi ho.
(kabeer ek jordar thappad marta hai.Khana ko wahi jamin par rakhte hue uske muh mein ek tape chipka kar chala jata hai.Pallavi bahut edhar-udhar hath-per marti hai par koi fayda nahi hota hai.Fir rone lagti hai.Kabeer bahar aate he apni aquapressure ki medicine leta hai.Uski saans dhire dhire control hoti hai.)
                                                                  cut to-

sc-03
INT. Room- Morning
character-Pallavi & kamla baai
(pallavi ke aankho mein halki si roshni padne par uski nind khulti hai.Wo apne bandhe hue hath ko kholne ki lagatar kosis karti hai.Kabhi window ke paas jakar bahar ka maahol dekhti hai to kabhi apne hath ko kholne ka.Tabhi kamla baai aati hai.Pallavi ke muh se tape ko nikalti hai aur khana khilane lagti hai)
                                                                             cut to-

sc-04
INT.  Room- Night
character-kabeer,pallavi & ritu thapar
(kabeer aur ritu dono haste-mzaak karte hue ghar ke andar aate hai.)
                                                                             Ritu
                                    kabeer,tumhari wife pallavi kahi nahi dikh rahi...
                                                                 Kabeer
   wo kuch dino ke liye tour mein gayi hui hai.Tm to janti he ho anathalaya mein uski zindagi gujri   hai.Ab nahi kahi jayegi to fir kab jayegi.
                                                                  Ritu
                                                  tum nahi gaye uske sath?
                                                                Kabeer
                                  tum to janti he ho mein kitna busy rahta hu.
                                                                 Ritu
                                               wo to mein dekh rahi hu.
                                                               Kabeer
                                         maazak karne ki adat ni gayi tmhari...
(kahte hue dono ek dusre ke karib aate hai.Pallavi ke kaano tak unki awaz pahunchti hai.Wo fir se hath-per ko kholne me lag jati hai.Par uske sath nakamyabi he lagti hai.Thak haar kar rone lagti hai.)
                                                                 cut to-

sc-05
INT. Room - pallavi,kabeer
(kabeer,pallavi ko khana khila raha hota hai.)
                                                                              Kabeer
Bhale he Tumhe yakin na ho par esh bar fir best businessman ka award mujhe he milne ja raha hai.Par pareshan mat hona mein tumhari zikr jarur karunga ki tum kisi genuie reason ke wajah se nahi aa payi...
                                                                         Cut to-

sc-06
INT. Room-morning
character-kabeer & nurse
(kabeer bed me leta hota hai.Nurse ushe injection de rahi hoti hai.)
                                                                                 Nurse
            Mr. Kabir,apke health mein sudhar aane laga hai.Aap treatment regular time pe lijiye.
                                                                                Kabeer
                                                                             Ok nurse…
                                                                     Cut to-
sc-07
INT.  Room- Night
character-kabeer & gayatri thapar
(kabeer aur gayatri dono room mein bethe gapp karte hai.Thoda masti bhi karte hai.)
                                                                     cut to-

sc-08
INT.  Room -Morning
character-kabeer & pallavi
                                                                    Kabeer
                                   hello my dearest wife.A very good news for you.
(kahte hue uski aur ek newspaper pakda deta hai.Pallavi newspaper dekhte he shocked ho jati hai.Paper mein pallavi ke photo ke sath ek chita ko kabeer aag dete hue dikhai deta hai.)
                                                                 Kabeer
Maarne ka to tujhe kab ka maar diya hota par tujhe zindagi mein tadpa tadpa kar marne ka maza he kuch aur hai.Tum bhi feel karo zindagi se haarne ka dard kaisa hota hai.
(kahte hue zor se hansta hai aur 'zindagi kaise hai paheli' gungunate hue nikal jata hai.Pallavi paper ko dekh kar rone lagti hai.)
                                                                  cut to-

sc-09
INT. Room-  Morning
character- pallavi & kamla baai
(kamla baai,pallavi ko khana khilane aati hai.)
                                                               Pallavi
                                                       Bathrum jana hai.
(kamla baai uske hath-per khol deti hai.Wo bathrum mein jakar edhar udhar tahalne lagti hai.Tabhi ushe rake pe ek blade rakha hua mil jata hai.Wo ushe lekar bahar aa jati hai.Kamla fir se uske hath per bandh kar khana khila kar chali jati hai.Pallavi dhire dhire hath me bandhe rassi ko katne lagti hai.Wo kat jata hai.Fir windows ko dhire se khol kar bahar pipe ke sahare niche utar jati hai.)
                                                                    cut to-
Sc-10
EXT. Hospital - Night
character-Pallavi & nurse
(pallavi hospital mein enter karti hai.Uske dimag mein chal raha hota hai-Ek chamber mein bethe wo patient ko check kar rahi hai.Ushe lung cancer hota hai.Patient bahar nikalta hai.Gate ke bahar ek chota sa plate laga hota hai,jis par likha hota hai-'pallavi bajaj,oncologist'. Wo chamber ke bahar pahunchti hai.Waha kisi aur ka name plate laga hota hai.Wo jaldi se muh ko dhak leti hai aur patient room mein chali jati hai.Waha doctor patient ko injection de raha hota hai.Fir
injection ko wahi niche pade dustbin mein phek deta hai aur fir nikal jata hai.Pallavi dhire se patient ke pas pahunch jati hai.Patient gahri nind mein so raha hota hai.Wo table par rakhe board ko padhti
hai jisme patient ka detail hota hai.Ushe blood cancer hota hai.Pallavi niche pade dustbin mein kuch dhundhne lagti hai.)

                                                                      Nurse
                                              Excuse me,aap kya kar rahe hai?
                                                                     Pallavi
             kuch...Kuch ni...Wo ear ki ek baali niche gir gayi hai.Ushe he dhundh rahi hu.

                                                                              Nurse
                                                               Ap hai kaun?
                                                                             Pallavi
                                      Mere relatives hai.Enhe cancer attack hai.
                                                                   Nurse
                                                                   Ok…
(kahte hue chali jati hai.Pallavi ek chain ki saans leti hai.Dobara wo dustbin se 5-6 syrnge wid needle utha leti hai.)
                                                                    cut to-

sc-11
INT.  Room-  Night
character-Pallavi & kabeer
(Pallavi window se lage pipe ki help se apne kamre pahunch jati hai.Syrnge wagerah ko jaldi se chupa deti hai.Fir rassi ko lekar mirror ke paas jati hai.Pahle apna per bandhti hai fir mirror mein
dekhte hue apni hath.Dusre kamre se kabeer aur kisi ladki ki hansi mzaak uske kaano mein padti rahti hai.)
                                                                     cut to-

sc-12
EXT.  Medicine store  - Morning
character-pallavi
(pallavi apne muh ko dupatte se dhake hue medicine store jati hai.Fir apne bag se ek slip nikal kar shopkeeper ko pakda deti hai.Slip me kuch medicine aur syrnge bhi hoti hai.Shopkeeper ushe medicine deta hai aur paise leta hai.Wo jaldi se naye syrnge ki packet ko aram se phad kar sari syrnge nikal kar apni wali syrnge rakh deti hai.Fir lifafe mein daal kar uske upar kabeer narang ka naam likhti hai.)
                                                                          cut to-

sc-13
INT.  Room - Morning
character-kamla baai
(Ghar ki door bell bajti hai.Kamla baai jakar gate kholti hai.Samne ek lifafa pada hota hai.Wo ushe lekar sahab ke room mein rakh deti hai.)
                                                                           cut to-

sc-14
INT.  Room - Evening
character-kabeer & nurse
(Kabeer bed mein leta hota hai.Nurse samne table par rakhe medicine ki packet se syrnge nikal kar kabeer ko injection lagati hai.)
                                                                           cut to-

Sc-15
EXT.  Railway station & hospital-Morning
character-pallavi & kabeer
(pallavi train mein bethi hoti hai.Edhar kabeer hospital ke I.C.U. Mein apni aakhiri saanse le raha hota hai.Train ki horn bajti hai.Train ka chalna start hota hai aur udhar kabeer mar jata hai.Pallavi ke aankho mein aansu hoti hai.)
                                                                           cut to-

sc-16
INT.  Office - Night
character-Pallavi
(pallavi apni chasme utarti hai aur aansu ko pochti hai. uski age badh chuki hoti hai.Tabhi window khulti hai aur hawa andar aane lagti hai.Pallavi aansu ponch kar chasme ko pahanti hai aur window ko band karne ke liye uth jati hai.Table par kuch news paper pade hote hai.Jisme kabeer narang ke death ke bare likhi hoti hai.Jise log mystarious samajhte hai.Pallavi window ko band karti hai aur wahi khade hokar bahar ka nzara dekh rahi hoti hai.)
                                                                   
                                                                 Pallavi
Log jab amir hote jate hai to unki sochne-samajhne ki Shakti kam hote jati hai...Aur kitno ke ghar ko barbad karta.Ek din to ushe khud bhi barbad hona tha.
Ab bikhri mohabbat,adhure sawal aur tanhaai pasand zindagi...
Bas yahi bach gayi thi esh zindagi mein.
                                                                 Cut to-
                                                                        
                                                                THE END.

False and true

Scripts 0

नैनीताल-एक अहसास:
नैनीताल के दृश्य देखकर मन कभी प्रफुल्लित हो उठता है तो कभी उदास।प्रफुल्लित होने के अपने कारण हैं। अयारपाटा में होने का आभास।एक दिन में दो-तीन बार उतरना -चढ़ना। तब यह नहीं सोचते थे कि थकान हो जायेगी। यह तो नहीं बता सकता हूँ कि  किन पगडंडियों में कितनी बार किस लिए गया। रात में कब्रिस्तान से जाने में बहुत डर लगता था। बचपन में सुनी भूत-प्रेतों की सभी कहानियां अचानक घनीभूत होकर सामने खड़ी हो जाती थीं।उन कहानियों का अलग एक रोमांच होता है। वे सपाट होती हुए भी उत्सुकता लिए होती हैं। तब प्रकृति प्रेम भव्य और दिव्य रूप में महसूस नहीं होता था। मंदिर भी कभी कभार ही जाना होता था।अपने मतलब के लिये। काम हुआ या नहीं, पता नहीं। अपने ढंग से हुआ हो तो कह नहीं सकता हूँ। अधिकांश समय भौतिकी, रसायन और गणित करने में निकल जाता था।लेकिन रात को कब्रिस्तान में भूत -प्रेतों की उपस्थिति के किस्से भौतिकी, रसायन और गणित का ज्ञान तिरोहित नहीं कर पाता था। गणित के दुरूह सूत्र, रसायन शास्त्र के रसायनिक समीकरण, भौतिकी के सिद्धांत प्रकृति से हमें बाँधे रखते हैं। कण का तरंग और कण के रूप में चलना किसी भूत की क्रियाओं से अलग नहीं लगता था। क्योंकि भूत के किस्से भी उटपटांग ही हुआ करते हैं। लगता है हमारी सृष्टि एक विशेष व्यवहार और प्रकृति लेना चाहती है। छोटे से बड़ा और फिर बड़े से छोटा।वह विराट कृष्ण रूप भी धर सकती है और बाउन अंगुल की भी बन सकती है।ज्ञान का गागर जो देव सिंह बिष्ट  महाविद्यालय में रखा है वह हमने कितना भरा और कितना खाली किया, यह तो समय पर छोड़ दिया है। उस गागर में जब तब झांकने का मन तो होता ही है। वहां पर जाकर कहने को मन होता है-  
"मेरे बचपन का आकाश
मेरे बचपन के नक्षत्र
मेरे बचपन की नदी
मेरे बचपन का गांव
मेरे बचपन का घराट
मेरे दोस्त हैं।
वह भोर का तारा
वे खेत खलिहान
वह घड़ी बना सूरज
वृक्षों की कतार
मेरे मित्र हैं।
वे वन जाती गायें
बादलों के घिराव
ऊँचे-नीचे झरने
पहाड़ों की दिव्यता
मेरे सखा हैं।
वे विद्यालय की किताबें
वे कक्षा के विद्यार्थी
वह लिखती हुई कलम
वे लिखे गये पन्ने
मेरे साथी हैं।
उन लड़कियों का होना
उन लड़कों का पूछना
लोगों की गपसप
बच्चों की शरारतें
मेरे संगी हैं।
वह रूखी सूखी रोटी
वह खेत की फसल
वह राहों की चढ़ाई
वह चिंता की रेखाएं
वे देश के जवान
मेरी आवाज हैं।"
मनुष्य ने भूतों के लिये भी लक्ष्मण रेखा खींच रखी है।कहते हैं वे मंदिर में नहीं आते हैं। एक बार एक भूत को उदास देखा गया जब उससे उसकी उदासी का कारण पूछा गया तो उसने बताया," उधर बहुत से वृक्षों ने आत्महत्या कर दी है।और शहर में बहुत गंदगी हो गयी है।झील की दशा भी ठीक नहीं है। सब देख कर मन उचाट हो गया है,उदेख लग रहा है।" कहते-कहते उसके आँसू निकल आये।

नैनीताल-एक अनुभव:

जीवन एक रहस्यमय कविता है। कुछ समझ में आता है, कुछ समझ में नहीं आता है। कुछ विराट है, कुछ सूक्ष्म है और कुछ, कुछ नहीं है। कल एक पुराने दोस्त का फोन आया लगभग ३८ साल बाद।अप्रत्यक्ष रूप से फेसबुक ही इसमें सहायक भूमिका निभा रहा था।एक अन्य दोस्त ने फेसबुक पर उसका फोन नम्बर लिखा था। फोन नम्बर देखते ही बहुत खुशी हुई।फोन लगाया लेकिन उसने उठाया नहीं।रात को उसका फोन आया परिचय पुरानी बातों के सहारे होने लगा। हमारी अन्तिम भेंट जबलपुर में हुई थी, रेल स्टेशन पर। मैं मंबई से इंटरव्यू देकर आ रहा था। भाभा परमाणु अनुसंधान केंद्र में इंटरव्यू था। साक्षात्कार में थर्मोडायनामिक्स के प्रथम नियम को विस्तार से बताने और उत्पत्ति करके उसकी  विवेचना करने को कहा गया था। पूर्ण हमेशा पूर्ण रहता है। फोन पर बातें अतीत की ओर मुड़ने लगीं और आगे बढ़ती गयीं।कुछ नाम उसने लिये जो मुझे याद नहीं आ रहे थे मुझे लगा कहीं अलजाइमर बीमारी तो नहीं होने लगी है? उसे भी कुछ नाम नहीं याद थे।लेकिन अधिकतर यादों में थे। कुछ नामों के बारे में उसने कहा सपने जैसे लग रहे हैं।जो मुझे पता था मैंने बताया। जो नाम नहीं बताये, वह बताने लगा।कौन कहाँ है उसकी भी संक्षिप्त जानकारी दी और ली गयी।अब नैनीताल अपने यौवन में आने लगा था।वह जवान झील और गरीब नाविक। तेज दौड़ते रिक्शे और दीन रिक्शे वाले। वह बोला बीच में एक बार नैनीताल गया था।यादें चुभ रही थीं, अतः कालेज तक नहीं गया। मैंने बताया कि मई में मैं भी गया था।होटल ट्रीबो में रूका था। झील मायूस लग रही थी, कटे हाथों वाली।उसने भविष्य के बारे में पूछा। मैंने बताया वह दिल्ली में है, फोन नम्बर व्हाट्सएप पर भेज दूँगा। फिर वह बोला," मेरे पास कोई पुरानी फोटो भी नहीं है, हम सब की।"  मैंने कहा व्हाट्सएप से भेज दूंगा, जो भी मेरे पास है। आगे कहा, श्रुति इलाहाबाद में है, बहुत मोटी हो गयी है,पहचान में नहीं आती है। उसने साथ में अपनी पुरानी फोटो लगा रखी थी, अतः कुछ आभास हो रहा था कि वही है। फिर वह बोला तीन थी ना, एक सीधीसादी थी(उसने जो शब्द बोला वह याद नहीं आ रहा है)। मुझे लगा वह सठिया गया है, लगता है। बातों को वहीं पर विराम दे, फोन रखने को हुआ तो वह बोला," यार, आज नींद नहीं आयेगी।" दूसरे दिन मैंने उसको एक समूह फोटो तथा नैनीताल झील पर लिखी चिट्ठी व्हाट्सएप पर भेजे। चिट्ठी इस प्रकार थी-
प्रिय,
      मैं तुम्हारी याद में सूखे जा रही हूँ।कहते हैं कभी सती माँ की आँखें यहाँ गिरी थीं।नैना देवी का मंदिर इसका साक्षी है। कभी मैं भरी पूरी रहती थी।तुम नाव में कभी अकेले कभी अपने साथियों के साथ नौकायन करते थे।नाव में बैठकर जब तुम मेरे जल को छूते थे तो मैं आनन्द में सिहर उठती थी।मछलियां मेरे सुख और आनन्द की सहभागी होती थीं।बत्तखों का झुंड सबको आकर्षित करता था। वक्त फिल्म का गाना" दिन हैं बहार के...।" तुम्हें अब भी रोमांचित करता होगा। प्रिय, अब मैं तुम्हारे कार्य कलापों से दुखी हूँ।तुमने गर्जों,गुफाओं में बड़े-बड़े होटल और कंक्रीट की सड़कें बना दी हैं।मेरे जल भरण क्षेत्रों को नष्ट कर दिया है।गंदगी से आसपास के क्षेत्रों को मलिन कर दिया है। यही गंदगी बह कर मुझमें समा जाती है।प्रिय, यह सब दुखद है।मेरे मरने का समय नहीं हुआ है लेकिन तुम मुझे आत्महत्या को विवश कर रहे हो। मैं मर जाऊँगी तो तुम्हारी भावनाएं, प्यार अपने आप समाप्त हो जाएंगे और तुम संकट में आ जाओगे।जो प्यार मेरे कारण विविध रंगी होता है, वह विलुप्त हो जायेगा।प्रिय, मेरे बारे में सोचो।अभी मैं पहले की तरह जीवंत हो सकती हूँ, यदि भीड़ , गंदगी और अनियंत्रित निर्माण को समाप्त कर दो।तुम मेरे सूखे किनारों से भयभीत नहीं हो क्या? मैंने बहुत सुन्दर कहानियां अतीत में कही हैं और बहुत सी शेष हैं।मैं जीना चाहती हूँ , यदि तुम साथ दो।
तुम्हारी
प्यारी नैनी झील।"
सुबह बगीचे में घूम रहा था। भविष्य को फोन लगाया और पूछा सुखेन्दु से बात हुई क्या? उसने बताया हुई और जब पूछा कि संपर्क बीच में तोड़ क्यों दिया तो कह रहा था," आप लोग अच्छी सरकारी नौकरी में थे और मुझे अच्छी नौकरी नहीं मिल पायी।"
भविष्य से बात करने के बाद सुखेन्दु को फोन लगाया। उसने पुरानी बातें छेड़ी। शायद, रात को गठरी बना ली थी। फटाक से बोला,"श्रुति के कितने बच्चे हैं?" मैं प्रश्न सुनकर चकित हो गया
। फिर धीरे से बोला,पता नहीं।उसने फेसबुक पर मुझे पहिचाना ही नहीं। वह बोला हाँ, इतने लम्बे समय बाद पहिचाना कठिन है,वैसे वह कुछ नाक चढ़ी थी, तब भी। आगे बोला, विभा सुना था शिक्षा विभाग में थी। सुना था तुम वहाँ गये थे। मैंने बात काटी और कहा," मेरा विभाग इंडियन ग्लाईकोहल से सामान खरीदता था, अतः वहां जाता रहता था।"
आजकल क्या दिनचर्या रहती है?मेरी अगली जिज्ञासा थी। वह बोला," सुबह योग करता हूँ, घूमने जाता हूँ। बस, योंही समय कट रहा है।"  मैंने कहा ," कभी-कभी मेरी दिनचर्या भी ऐसी ही है। कभी लिख भी लेता हूँ। गूगल से खोज सकते हो कुछ।" वह बोला ,"तुम तब भी कविता लिखते थे और सुनाता था।" मुझे सुनाने की याद नहीं है, अतः चुप रहा। फिर वह बोला," तुम्हारा फोन का बिल बहुत हो गया होगा, रखता हूँ।"
मैं बगीचे  के एक बेंच में बैठ गया और व्हाट्सएप पर उसे अपनी नयी  रचना लिख भेजी -
" मैं चमकता सूरज नहीं
पर चमक लिये तो हूँ,
मैं चमकता चंद्र नहीं
पर स्पष्ट दिखता तो हूँ,
मैं बहती नदी सा नहीं
पर  बहाव तो हूँ,
मैं पहाड़ सा नहीं
पर अडिग तो हूँ,
मैं वृक्ष सा नहीं
पर फलदार तो हूँ,
मैं फूल सा नहीं
पर  खुशबूदार तो हूँ।"
      ******the

Aik Anubhav Nain..

Short Stories 0

एक नेताजी सुबह सबेरे , चल दिये मीडिया के घेरे में,
अपनी हि शान में मगन, बैठ गये मुलाकतों के फेरे में,
मै अपना इस्तीफा देता हुं मंत्री के पद से ,
क्यों की यह पद मुझे ना भाया छोटा मेरी कद से ,
फिर मीडिया ने की खासी पुछताछ, क्यो दे रहे आप पदत्याग,
तो झट से बोले मुझे हायकमांड ने बह्काया,
उन्ही के बह्कावे में मै इस पार्टी में आया
फिर मीडिया ने पुछ ही लिया ,
कैसे हायकमांड ने आपको बह्काया 
बोले नेताजी उन्होने मुझसे कहा
आओ मेरी पार्टी में मैं आपकी सुध लेती हुं
बस नौ महिने रुक जाईए मैं आपको मुख्यमंत्री का पद देती हु,
मेरी मती मारी गयी थी जो शिव कि सेना को ठुकराया
ना मुख्यमंत्री का पद मिला उल्टा सबने दुत्कारा,
बस अब मैं हायकमांड से मिलता हुं,
अपने दिल के जख्म उन्हे दिखाता हुं,
तुरंत गये दिल्ली दरबार ना मिला कोई तारणहार,
फिर लौट के बुद्धू आये अपने हि घरद्वार
मीडिया तो बैठी हि थी कर रही थी इंतजार ,
फिर नेताजी ढूंढने निकले नई पार्टी का द्वार
एक जगह रुककर अंदर की ओर चल दिये ,
अपनी हि पुरानी पार्टी के फल चखने खो गए
मगर ये क्या थोडी ही देर में  वापस आयें
फिर मिडीया ने रोका क्यूं नेताजी हो बौखलाये ,
फिर सबने पुछा क्या इस पार्टी से कली खिलती ,
नेताजी बोले मेरी विचारधारा अब इससे नही मिलती,
फिर नेताजी चल दिये मायुसी के घेरे में,
अपनी ही धून में मगन किसी नयी पार्टी के खोज में

Khoj

Poems 0

मैं एक ख़्वाबख़्वाब सा हूँ,
जो फिर एक बार आया हूँ-
अब न आऊँगा दुबारा लौट के-
मैं एक तूफान हूँ, दर्द हूँ-अज़ाब हूँ-
एक बार आने के बाद फिर न आने की बात-
एक बार आपस में दिल लगाने की बात-
एक झोका हूँ, समुंदर के लहर
जो एक बार जाने के बाद,
शायद ही कभी सोचता है आने के लिए-
रोकना हैं तो रोक लो,
इन मस्त वादियों में खोने से-
लहरों के बीच, विचलित मन-
अकेले हीं डूब जाने से-
बाँध लो अपने इस अनेपन कि डोर को-
जकड़ लो इस नेह की जंज़ीरों को-
शायद रुक जाऊँ मैं तेरे लिये-
बना लो मुझे अपनी बाजुओं में जकड़ के-
अपने गले में मेरा हार बनाके-
बस, ये ना हो कहने को कि-
काश! मैं ये-----
काश! मैं वो----
आज मेरे जाने के बाद-
तेरी है सुबह-ओ-शाम,
मेरी यादों में कटने वाली है-
बस ख़ुद को ये समझा लेना-
जहाँ भी रहूँगा मैं-
तेरी परछाईयाँ मेरे साये में रहेगी!
तेरी हर एक बात याद दिलाएगी,
जो दिन हमारे अपने थे-
जो एक दूसरे के लिए हमने चुराई थी-

#प्रियरंजन 'प्रियम'
 

Ek Khwaab

Poems 0

नैनीताल के दृश्य देखकर मन कभी प्रफुल्लित हो उठता है तो कभी उदास।प्रफुल्लित होने के अपने कारण हैं। अयारपाटा में होने का आभास।एक दिन में दो-तीन बार उतरना -चढ़ना। तब यह नहीं सोचते थे कि थकान हो जायेगी। यह तो नहीं बता सकता हूँ कि  किन पगडंडियों में कितनी बार किस लिए गया। रात में कब्रिस्तान से जाने में बहुत डर लगता था। बचपन में सुनी भूत-प्रेतों की सभी कहानियां अचानक घनीभूत होकर सामने खड़ी हो जाती थीं।उन कहानियों का अलग एक रोमांच होता है। वे सपाट होती हुए भी उत्सुकता लिए होती हैं। तब प्रकृति प्रेम भव्य और दिव्य रूप में महसूस नहीं होता था। मंदिर भी कभी कभार ही जाना होता था।अपने मतलब के लिये। काम हुआ या नहीं, पता नहीं। अपने ढंग से हुआ हो तो कह नहीं सकता हूँ। अधिकांश समय भौतिकी, रसायन और गणित करने में निकल जाता था।लेकिन रात को कब्रिस्तान में भूत -प्रेतों की उपस्थिति के किस्से भौतिकी, रसायन और गणित का ज्ञान तिरोहित नहीं कर पाता था। गणित के दुरूह सूत्र, रसायन शास्त्र के रसायनिक समीकरण, भौतिकी के सिद्धांत प्रकृति से हमें बाँधे रखते हैं। कण का तरंग और कण के रूप में चलना किसी भूत की क्रियाओं से अलग नहीं लगता था। क्योंकि भूत के किस्से भी उटपटांग ही हुआ करते हैं। लगता है हमारी सृष्टि एक विशेष व्यवहार और प्रकृति लेना चाहती है। छोटे से बड़ा और फिर बड़े से छोटा।वह विराट कृष्ण रूप भी धर सकती है और बाउन अंगुल की भी बन सकती है।ज्ञान का गागर जो देव सिंह बिष्ट  महाविद्यालय में रखा है वह हमने कितना भरा और कितना खाली किया, यह तो समय पर छोड़ दिया है। उस गागर में जब तब झांकने का मन तो होता ही है। वहां पर जाकर कहने को मन होता है-  
"मेरे बचपन का आकाश
मेरे बचपन के नक्षत्र
मेरे बचपन की नदी
मेरे बचपन का गांव
मेरे बचपन का घराट
मेरे दोस्त हैं।
वह भोर का तारा
वे खेत खलिहान
वह घड़ी बना सूरज
वृक्षों की कतार
मेरे मित्र हैं।
वे वन जाती गायें
बादलों के घिराव
ऊँचे-नीचे झरने
पहाड़ों की दिव्यता
मेरे सखा हैं।
वे विद्यालय की किताबें
वे कक्षा के विद्यार्थी
वह लिखती हुई कलम
वे लिखे गये पन्ने
मेरे साथी हैं।
उन लड़कियों का होना
उन लड़कों का पूछना
लोगों की गपसप
बच्चों की शरारतें
मेरे संगी हैं।नैनीताल के दृश्य देखकर मन कभी प्रफुल्लित हो उठता है तो कभी उदास।प्रफुल्लित होने के अपने कारण हैं। अयारपाटा में होने का आभास।एक दिन में दो-तीन बार उतरना -चढ़ना। तब यह नहीं सोचते थे कि थकान हो जायेगी। यह तो नहीं बता सकता हूँ कि  किन पगडंडियों में कितनी बार किस लिए गया। रात में कब्रिस्तान से जाने में बहुत डर लगता था। बचपन में सुनी भूत-प्रेतों की सभी कहानियां अचानक घनीभूत होकर सामने खड़ी हो जाती थीं।उन कहानियों का अलग एक रोमांच होता है। वे सपाट होती हुए भी उत्सुकता लिए होती हैं। तब प्रकृति प्रेम भव्य और दिव्य रूप में महसूस नहीं होता था। मंदिर भी कभी कभार ही जाना होता था।अपने मतलब के लिये। काम हुआ या नहीं, पता नहीं। अपने ढंग से हुआ हो तो कह नहीं सकता हूँ। अधिकांश समय भौतिकी, रसायन और गणित करने में निकल जाता था।लेकिन रात को कब्रिस्तान में भूत -प्रेतों की उपस्थिति के किस्से भौतिकी, रसायन और गणित का ज्ञान तिरोहित नहीं कर पाता था। गणित के दुरूह सूत्र, रसायन शास्त्र के रसायनिक समीकरण, भौतिकी के सिद्धांत प्रकृति से हमें बाँधे रखते हैं। कण का तरंग और कण के रूप में चलना किसी भूत की क्रियाओं से अलग नहीं लगता था। क्योंकि भूत के किस्से भी उटपटांग ही हुआ करते हैं। लगता है हमारी सृष्टि एक विशेष व्यवहार और प्रकृति लेना चाहती है। छोटे से बड़ा और फिर बड़े से छोटा।वह विराट कृष्ण रूप भी धर सकती है और बाउन अंगुल की भी बन सकती है।ज्ञान का गागर जो देव सिंह बिष्ट  महाविद्यालय में रखा है वह हमने कितना भरा और कितना खाली किया, यह तो समय पर छोड़ दिया है। उस गागर में जब तब झांकने का मन तो होता ही है। वहां पर जाकर कहने को मन होता है-  
"मेरे बचपन का आकाश
मेरे बचपन के नक्षत्र
मेरे बचपन की नदी
मेरे बचपन का गांव
मेरे बचपन का घराट
मेरे दोस्त हैं।
वह भोर का तारा
वे खेत खलिहान
वह घड़ी बना सूरज
वृक्षों की कतार
मेरे मित्र हैं।
वे वन जाती गायें
बादलों के घिराव
ऊँचे-नीचे झरने
पहाड़ों की दिव्यता
मेरे सखा हैं।
वे विद्यालय की किताबें
वे कक्षा के विद्यार्थी
वह लिखती हुई कलम
वे लिखे गये पन्ने
मेरे साथी हैं।
उन लड़कियों का होना
उन लड़कों का पूछना
लोगों की गपसप
बच्चों की शरारतें
मेरे संगी हैं।
वह रूखी सूखी रोटी
वह खेत की फसल
वह राहों की चढ़ाई
वह चिंता की रेखाएं
वे देश के जवान
मेरी आवाज हैं।"
मनुष्य ने भूतों के लिये भी लक्ष्मण रेखा खींच रखी है।कहते हैं वे मंदिर में नहीं आते हैं। एक बार एक भूत को उदास देखा गया जब उससे उसकी उदासी का कारण पूछा गया तो उसने बताया," उधर बहुत से वृक्षों ने आत्महत्या कर दी है।और शहर में बहुत गंदगी हो गयी है।झील की दशा भी ठीक नहीं है। सब देख कर मन उचाट हो गया है,उदेख लग रहा है।" कहते-कहते उसके आँसू निकल आये।
वह रूखी सूखी रोटी
वह खेत की फसल
वह राहों की चढ़ाई
वह चिंता की रेखाएं
वे देश के जवान
मेरी आवाज हैं।"
मनुष्य ने भूतों के लिये भी लक्ष्मण रेखा खींच रखी है।कहते हैं वे मंदिर में नहीं आते हैं। एक बार एक भूत को उदास देखा गया जब उससे उसकी उदासी का कारण पूछा गया तो उसने बताया," उधर बहुत से वृक्षों ने आत्महत्या कर दी है।और शहर में बहुत गंदगी हो गयी है।झील की दशा भी ठीक नहीं है। सब देख कर मन उचाट हो गया है,उदेख लग रहा है।" कहते-कहते उसके आँसू निकल आये।

Nainital kee Baat

Miscellaneous 0

Explore →
Tumbhi blog

Why should you..

Why should you bring some ART home?



read blog
tumbhi advisors

L C Singh

Member, Film Writers Association, Mumbai Playwright and Author - feature film..
advisors
USERSPEAK

amar azad

Ham to u hi bhatakte the manjil ki talas me.lekin tumbhi aaye mere zindgi ke sath me

testimonials
GO