Follow Us
  • SIGN UP
  • tumbhi microsites
tumbhi microsites

Writing

Male
Ankhon ne jo sunli hai dil ki pukar..
Ye behti hi jati hai besumar..
Ankhon ne jo sun li hai dil ki pukar..
Ye behti hi jati hai besumar…
Jism jamne lagi hai
Dharkanen thamne lagi hai
Ruh kehne lagi hai
Tu dur rehne lagi hai….
Ho jae tera ek didar
Beinteha tumse karta hun piyar…
Ankhon ne jo sun li hai dil ki pukar..
Ye behti hi jati hai besumar…
Female
Ankho ne jo sunli hai dil ki pukar…
Ye behti hi jati hai besumar..
Ankho ne jo sunli hai dil ki pukar…
Ye behti hi jati hai besumar..
Meri tujhe kuchh khabar hai
Asque se sara jism tar hai
Jindagi lagti ek jehar hai
Meri duaen bhi beasar hai……..
Jina ho gaya hai duswar
Kiya tum sun rahe ho mere yar.
Ankho ne jo sun li hai dil ki pukkar
Ye behti hi jati hai besumar…
Male
Ankho ne jo sunli hai dil ki pukar…
Ye behti hi jati hai besumar..
Ankho ne jo sunli hai dil ki pukar…
Ye behti hi jati hai besumar..
Mujhe ye marj jo hua hai
Ye dur rehne ki saja hai
Kargar na koi dua hai
Hasi teri iski dawa hai…
Ho jae tera ek didar
Beinteha tumse karta hun piyar…
Ankhon ne jo sun li hai dil ki pukar..
Ye behti hi jati hai besumar…
Female
Ankho ne jo sunli hai dil ki pukar…
Ye behti hi jati hai besumar..
Ankho ne jo sunli hai dil ki pukar…
Ye behti hi jati hai besumar..
Meri dharkan teri sason se juri hai
Ye ek anjani koi kari hai
Mot ki dastak aa pari hai
Dur hone ki ye ghari hai…
Jina ho gaya hai duswar
Kiya tum sun rahe ho mere yar.
Ankho ne jo sun li hai dil ki pukkar
Ye behti hi jati hai besumar…
Male & female
Ankho ne jo sun li hai dil ki pukkar
Ye behti hi jati hai besumar…
Ankho ne jo sun li hai dil ki pukkar
Ye behti hi jati hai besumar…
Hamen tumpe hai etwar
Ham milke rahen ge ek bar
Karen mot ki jid bhi bekar
Koi bicha de har jagah pe khar
Ya bana de o lohe ki diwar
Ankho ne jo sun li hai dil ki pukkar
Ye behti hi jati hai besumar…
Ankho ne jo sun li hai dil ki pukkar
Ye behti hi jati hai besumar…

aa li hai dil ki..

Lyrics 0

         Ramaa ki shaadi ko chaar saal ho gaye the. Ramaa aur uska pati Vishaal Mumbai me khush-haal zindgi jee rahe the. Ekk beti bhi thi unke. Naam tha Pooja. Ramaa ne B.A. kiya hua tha aur home maker thi. Vishaal Mumbai me hi ekk Multinational company me naukari karta tha. Esa chhota sa parivaar tha unka.
        Ekk din office jate huye Vishaal ka accident ho gaya. Aas paas ke hi kuchh logo ne use hospital pahuchaaya aur Vishaal ke mobile se Ramaa ko phone karke accident ke baare me bataaya.
        Ramaa Pooja ko saath me lekar thodi der me hospital pahunch gayi.
   Vishaal ki haalat bigadne lagi thi.Thodi hi der me Vishaal ki maut ho gayi.
   Ramaa Vishaal ki maut ke baad toot gayi thi. Usne jese tese Pooja ki khatir khud ko sambhala.
   Kuchh waqt baad Ramaa ne naukri ke liye usi company me apply kiyà, jisme Vishaal kaam karta tha.
   Ramaa ko naukri mil gayi.
  Ramaa naukari karne lagi thi. Ramaa ke saath kaam karne wala Raaj uss se pyaar karne laga tha.
   Ramaa ko bhi sahaare ki talaash thi. Jab Raaj ne Ramaa ko propose kiya  to Ramaa manaa nahi kar payi aur saath hi Raaj ko apne ateet ke baare me bataa diya.
    Ramaa aur Raaj ne kuchh samay baad shaadi kar li.
     Sab thhik chal raha tha. Pooja bhi school jaane lagi thi.
After 15 years:
  Raaj jyada sharaab peene laga tha. Pooja bhi badi ho gayi thi. Raaj ki najren Pooja par padne lagi thi.
   Ekk din Raaj sharaab pikar ghar aaya. Ramaa office kaam se gayi thi.
   Raaj ne ghar me Pooja ko akela pakar Pooja ka rape kar diya.
  Jab Ramaa ghar aayi to Pooja ro rahi thi. Ramaa ne uss se rone ki vajah puchhi, tab bhi Pooja roti rahi aur Ramaa ke gale lag gayi.
    Ramaa ne jor dekar Pooja se puchha to Pooja ne Raaj ki kartut  bata di. Ramaa  gusse me aa gayi aur Raaj ko ekk jordar thappad laga diya.
    Fir Pooja ko samjhaane lagi ki ye baat kisi ko mat batana. Agar bataaogi to samaaj me hamari kya izzat rah jayegi.  Aur itna kahte hi Ramaa fafak kar rone lagi aur Pooja ko gale laga kar use himmat bandhane lagi.
    Agle hi din Ramaa aur Pooja ne Raaj ka ghar chhod diya aur dono Ramaa ke mayke rahane aa gayi.
  Kuchh samay baad Pooja ne LLB ka course karne ke liye law college me admission le liya.
   College me Pooja ka ekk classmate tha Vijay. WO bahut hi karishmaai vyaktitv ka dhani tha.
    College me bahut si ladkya Vijay ko pasand karti thi. Par Vijay Pooja ko pasand karne laga tha. Vijay ne Pooja ki taraf dosti ka haath badaya. Lekin Pooja ne koi jawab nahi diya.
  Pooja college me bahut chup rahti thi aur bahut kam logon se batcheet karti thi. Pooja bas padhhaai me hi khoi rahti thi.
  After 1 month- 
College me freshers party thi. Sabhi students saj dhaj kar aaye thi. Aur Pooja bilkul saade kapdo me aai thi.Fir bhi bahut khoob-surat lag rahi thi.
  Fresher party ka function chal raha tha.
Stage par Vijay gaana gaane wala tha.
Sabhi ladkiyo me Vijay ke gaane ko lekar bahut utsaah tha.
  Vijay ne stage par ye to nahi bataaya ki wo ye gaana kis ke liye gaa raha he lekin wo ye gaana Pooja ke liye gaa rahaa tha.
  Vijay ne gaana gaaya-
Zindgi kisi ke liye nahi rukti,
Fir bhi aaj tere liye,
Thhahar si gayi he,
Meri saari khushiya,
Tujhme hi bas gayi he,
Zindgi meri tere bin,
Bemaani si he,
Tere saath ke bina,
Meri har masti bhi,
Naadani si he,
Zindgi.........
Zindgi kisi ke,
Kahne se nahi chalti,
Fir bhi aaj teri baato se,
Chal si gayi he,
Zindgi ke sookhe me,
Saawan ki ekk bochhaar,
Padd si gayi he,
Tere door hone se,
Zindgi me pareshaani si he,
Zindgi...............
Main padta nahi,
Zindgi ki uljhano me,
Fir bhi zindgi,
Tere sawaal me,
Ulajh si gayi he,
Zindgi ki dheemi gaadi,
Raftaar pakad si gayi he,
Tere saath meri zindgi,
Bahaaro si he,
Tere saath ke bina,
Zindgi meri zahar khuraani si he,
Zindgi.............

       Samay bahut tezi se guzar raha tha. LLB final year chal raha tha. Ekk din class khatm hote hi Vijay ne Pooja ko rok liya aur kaha- I Love u Pooja. College khatm hone wala he aur aaj me tumse ye baat kahne ki himmat juta paya hu.
  Pooja ne koi jawab nahi diya aur chup-chaap jane lagi.
    Vijay ne Pooja ka haath pakad liya aur kaha, aaj tum bina jawab diye yahan se nahi jaa sakti.
    Pooja fir chup rahi to Vijay ne puchha "kya tumhe koi aur pasand he" "kya me tumhare laayak nahi hu"?
   Pooja ki aankho me aansu aa gaye to Vijay ne kaha-kya koi galti ho gayi mujhse?
  Pooja ne kaha- nahi tumse koi galti nahi hui Vijay.
   "Vijay tum bahut laayak ho lekin me hi tumhaare laayak nahi hu. Tumhe mujh se acchhi ladki life partner mil jayegi".
   Vijay ne kaha "esa kyun kah rahi ho Pooja"?
   Vijay ne jab bahut jor dekar puchha to Pooja ko apni aap-biti Vijay ko bataani padi ki kis tarike se uske sotele baap ne uss par atyachaar kiye.
   Oh my god! kahte hue Vijay jameen par ghutne ke bal bethh gaya.
  Jab Pooja jane lagi to Vijay ne uss se kaha "main tumhara atit jan ne ke bad bhi tum se pyaar karta hu". Fir bhi Pooja bina kuchh kahe waha se chali gayi.
  Idhar Raaj illigal kam kar ke bahut ameer ho gaya tha. Raaj ne pese ke dam par politics me perr rakh liya tha aur chunav jeetkar MLA ban gaya.
  Final exam start hone wale the. Sabhi apni paddhai me jute huye the. Lekin Pooja ka mann bar bar Vijay ki baton me bhatak raha tha. Exam start ho gaye the.
  Pahla exam over hone ke baad sabhi exam hall se baahar nikal aaye the. Pooja ne Vijay ko roka aur kaha "main bhi tum se pyar karti hu." Itna sunte hi Vijay ne Pooja ko gale laga liya.
  Kucch dino baad sabhi exam over ho gaye the.
  After 1 month- - Exam ka result aa gaya tha.   
   Pooja ne top kiya tha. Vijay aur Pooja ne decide kiya ki ve jab college me marksheet lene aayenge tab jaroor milenge.
   After 15 days:
   Dono college me mile.
  Vijay ne Pooja se kaha ki tum par jo bhi biti tum uss ka badla abb le sakati ho.
"Main kuchh samjhi nahi....". Pooja ne kaha.
  Vijay ne kaha "bahut na-samajh ho tum". Tum apne sotele baap ko uske kiye ki saja dilwa sakti ho. Iss case ko ladne se tumhara confidence baddhega aur tum samaaj ke liye ek misaal ban jaaogi.
   Pooja soch me doob gayi.
  Vijay ne kaha "itna kya soch rahi ho Pooja." Tumhe ye case jaroor ladna chahiye. Jeet tumhari hi hogi.
  "Main ye case jaroor ladoongi aur use saja dilwakar rahoongi." Pooja ne kaha.
  Ye hui na baat..... kahte hue Vijay ne Pooja se kaha "koi aur ho na ho... main tumhaare saath hu".
  Jab Pooja ghar par pahunchi to wo uski maa Ramaa ko boli- main sotele pita Raaj ke khilaaf mukdama ladoongi.
  Ramaa boli- kyun beti.
  Pooja ne kaha- main apne upar bachpan me huye atyaachaar ka badla loongi. aur use saza dilwakar rahoongi.
  Ramaa aur Pooja me kafi bahas hui ki abb Raaj MLA ban gaya he. Wo kuchh bhi kar sakta he.
  Lekin baad me wo bhi maan gayi.
  Agle din Pooja aur Vijay dono milkar police station pahunche.
  Police ne Raaj ke dabdabe ki vajah se uss ke khilaaf FIR likhne se mana kar diya.
   Jab Raaj ko pataa chala ki Pooja uss ke khilaf case ladne wali he, to uss ne Gundo ko Ramaa ke ghar bhejkar Pooja ko aguvaa karva liya.
    Gunde Pooja ko Raaj ke farm house par le gaye.
     Idhar Ramaa ne ghabrakar Vijay ko phone kiya.
  Ramaa -  Hello.....Hello...Vijay.....
  Vijay-  Ha bol raha hu.
Ramaa -  Beta........main Pooja ki maa
          bol rahi hu.
  Vijay - Ha boliye auntie.
Ramaa - Beta Pooja ko kuchh log utthha kar le gaye hain.
    Itna sunte hi Vijay phone ko cut kar diya. Wo samajh gaya ki Raaj ne hi Pooja ko aguvaa karwaaya he. Wo foran bike start karke Raaj ke bangle ki taraf rawaana ho gaya.
    Gunde Pooja ko Raaj me bangle par le gaye.
  Vijay bhi waha pahunch gaya.
  Vijay ne sabhi gundo ko dhher kar diya aur Pooja ko chhuda laya.
  Agle din Pooja aur Vijay dono news men ko lekar police station pahunch gaye. Police ko Raaj ke khilaf  FIR  likhni padi.
  Agle hi din Raaj ko giraftar kar liya gaya. Pooja ka medical muaayna karaaya gaya.
Medical report me Pooja se rape ki pushti ho gayi.
Pooja ne khud case lada aur sotele pita Raaj ke khilaf gavahi bhi di.
  Ramaa ne bhi Raaj ke khilaaf gavaahi di.
Jawaab me Raaj ka vakeel koi khaas zirah nahi kar paya.
  Judge sahab ne sabuto aur gavaaho ke bayaan ke aadhar par Raaj ko 7 saal kaid ki saza sunaayi.
Jab Pooja court se baahar aane lagi to Vijay uske paas aya aur bola "congratulation Pooja" "i love you" "i want to marry you".
  Itna sunte hi Pooja Vijay ke gale lag gayi aur boli "i love u too" & "i will marry u".
  Kuchh dino baad dono ne shaadi kar li.
                     THE END

Adaalat......

Scripts 0

गाँव का  एक अधेड़ उम्र का लगभग जीर्ण शरीर व्यक्ति रामसुख अपनी बेटी अनीता के साथ जंगले में लकड़ी काट रहा था । तभी उन दोनों को एक लड़की दिखाई दी जो पेड़ो की आड़ में  अपने आप  को छुपाते हुए भागने की कोशिश कर रही थी । उसने जींस और  टी-शर्ट पहन रखा था जिससे उसका शहर की   होने का आभास होता था । उस लड़की ने जब उन दोनों बाप बेटी को देखा तो दौड़ कर उन दोनों के पास आ गयी , और हेल्प मी हेल्प मी कहने लगी । वे दोनों बाप बेटी इस अंग्रेजी शब्द का मतलब तो न समझ सके, लेकिन उसके घबराये हुए चेहरे से इतना अनुमान लगा लिए की वह किसी मुसीबत में है । तभी उन लोगो को उस लड़की के पीछे  एक लड़का आता हुआ दिखाई दिया । जिसे  देखकर उन लोगो को सारा माजरा समझते देर न लगी। उस लड़की ने भी पास आकार बताया की ये लड़का मेरा पीछा कर रहा है । तब उन दोनों बाप बेटी  ने उस लड़की को दिलाशा दी  की अब तुम्हे कुछ नहीं होगा तुम चिंता मत करो  ".
उसके बाद उस अधेड़ ने अपनी बेटी अनीता से कहा की तुम इस लड़की को लेकर यहाँ से भाग जाओ "  बाकी मै  सम्हाल  लूँगा ।
"पहले तो उसकी बेटी  उसे छोड़ कर जाने को तैयार नहीं हुई " लेकिन  बाप के ज्यादा जोर देकर कहने पर वह वहां से जाने को तैयार हुई । तब तक वो लड़का भी रामसुख के पास आ पहुंचा "
वह राम सुख को धक्का देते हुए उन लड़कियों का पीछा करने के लिए आगे बढ़ा । "लेकिन  अगले ही पल रामसुख ने उसका रास्ता रोक लिया ।
"और फिर दोनों में संघर्ष होने लगा "
लेकिन जीर्ण जिश्म रामसुख उस नौजवान लड़के का सामना ज्यादा देर तक नहीं कर सका , और  वह लड़के द्वारा घायल होकर गिर गया ।
"वह लड़का अब रामसुख को वही पर छोड़, उन लड़कियों को ढूढ़ने  के लिए आगे बढ़ा " लेकिन तब तक वो लड़कियां उसकी पहुँच से बहुत दूर निकल चुकी थी । वो लड़का थोड़ी देर उन लड़कियों को यहाँ -वहाँ  ढूंढा , लेकिन कही न पाकर लौट गया ।
"अनीता उस लड़की को लेकर एक सुरक्षित स्थान पर पहुंची"
"वहां पहुंचकर अनीता ने उस लड़की का पसीना पोछते हुए उसे  ढाढस बंधाया की अब तुम यहाँ बिलकुल सुरक्षित हो "
उसके बाद अनीता ने उस लड़की का परिचय पूँछा  ।
लेकिन वो लड़की अभी भी डर  से काँप रही थी । वह  कुछ बताने की स्थिति में नहीं थी ।
जब अनीता ने उस लड़की को इतना डरा हुआ देखा तो उसने  उसे गले से लगा लिया और सांत्वना देने लगी ।
" जब लड़की थोड़ी देर बाद  समान्य हुई तो उसने अपना परिचय बताया  "
"उसने बताया की उसका नाम नीलम है । गाँव के विशम्भरदास शर्मा उसके मामा है । लेकिन मेरा घर दिल्ली  में है। मै  पापा मम्मी के साथ दिल्ली शहर मेही रहती हूँ , और  मै वही पर  पढ़ती हूँ "
"लेकिन इस समय गर्मियों में स्कूलों की छुट्टियाँ चल रही है । इसलिए मै गरमियों की छुट्टियों में मामा के यहाँ गाँव घुमने आई थी ।
आज मै  अपनी एक सहेली के साथ नदी के किनारे घूमने गयी थी ।  मै नदी का नजर नजारा देखने के लिए एक जगह ठहरी रह गयी , लेकिन मेरी सहेली मुझसे आगे निकल गयी । और तभी  उसी समय ये लड़का आया और मेरा मुह दबाकर  मुझे जबरदस्ती जंगल की तरफ उठाकर ले गया। शायद ये लड़का हम लोगो का पीछा पहले से ही कर रहा था । लेकिन मै किसी तरह इसके चंगुल से अपने आप को छुड़ाकर भागी , और भागते भागते यहाँ तक आ पहुंची । आप लोगो ने मुझे उस दरिन्दे के चंगुल से बचाया "'इसका आप लोगो का बहुत बहुत शुक्रिया "''
अनीता ने कहा इसमें शुक्रिया अदा करने की कोई जरूरत नहीं है । आखिर मै  भी तो एक लड़की हूँ ।
"लेकिन तुम बहुत किस्मत वाली हो जो इस  हैवान के चंगुल से बच निकली " वरना  हर लड़की की किस्मत ऐसी कहाँ जो इस वहसी दरिन्दे के चंगुल से बच पाई हो । अनीता ने कहा .............."
नीलम :    तो  क्या तुम इस लड़के को जानती हो ..........?
अनीता :    हाँ नीलम इस दरिन्दे को कौन नहीं जानता ,  यह एक अमीर बाप की एक  बिगड़ी औलाद है । यह वो दरिंदा है जिसने कई  मजबूर, गरीब  और लाचार लड़कियों की जिंदगी बर्बाद की है । इसे कोई कुछ भी नहीं बोलता । क्यूंकि बाप पैसो के दम पर कानून और पुलिस को जेब में रखता है तो बेटा  डरा धमका कर लोगो का मुह बंद रखता है ।"
नीलम :  लेकिन अब इसकी गुंडा गर्दी नहीं चलेगी । मै अपने मामा से बोलकर इसकी खबर लूंगी । यह शायद मेरे मामा को जानता  नहीं है की मेरे मामा कौन है । वे इस गाँव के प्रधान है । जब वे जानेंगे की इसने मेरे साथ ऐसा सलूक किया तो वे इसे जीता नहीं  छोड़ेंगे ।
अनीता :     (हिचकिचाहट भरे स्वर में )   क्या ........?........तुम्हारे  मामा ................... ???????
"इतना कहकर अनीता ने आगे कुछ नहीं बोला "
नीलम :    क्या हुआ । तुम कुछ बोलने वाली थी ........
अनीता :   नहीं , कुछ  नहीं ।
नीलम :   ओके ....... प्लीज़  क्या तुम मुझे, मेरे घर तक छोड़ सकती हो ।
अनीता :   लेकिन मै  तुम्हारे साथ गाँव तक नहीं जा सकती ।
नीलम  :   क्यों ........
अनीता :    गाँव में प्रवेश के लिए मेरे ऊपर प्रतिबन्ध लगा हुआ है । इसलिए मेरा घर भी गाँव से बहार इस जंगले में बना हुआ है ।
नीलम :     ( आश्चर्य भरे स्वर   में )  कैसा प्रतिबन्ध ......?
अनीता :    ये जानने  के लिए तुम्हे मेरी कहानी सुननी पड़ेगी, लेकिन  तुम्हे घर जाना होगा इसलिए चलो मै  तुम्हे गाँव के पास तक छोड़ देती हूँ उसके बाद तुम चली जाना ।
नीलम :   लेकिन अब तो मै  तुम्हारी कहानी सुनाने के बाद ही यहाँ से जाउंगी ।"
अनीता :  तो ठीक है जैसी तुम्हारी मर्जी "
                           " उसके बाद अनीता ने जो दास्तान नीलम को बताई वह स्वत्रन्त्र भारत के गौरव गाथा की धज्जियाँ उड़ा  देनी वाली थी। उसे सुनकर तो ऐसा लग रहा था की यहाँ एक भारत नहीं बल्कि दो भारत है । भारत तो अंग्रेजो की गुलामी से निजात पा चुका  था । लेकिन इस भारत के अन्दर एक और भारत  भी है जो अभी भी गुलाम बना हुआ है । जिसकी हुकूमत रसूखदारों धर्म के ठेकेदारों और जमींदारो के हांथों में है । अनीता भी उसी दूसरे भारत की निवासी  थी । जिसकी बागडोर ऐसे ही  लोगों के हाथों में थी । उस भारत में अनीता का समाज आज भी गुलामी की जंजीरों में जकड़ा हुआ था ।
अनीता ने बताया की पहले उसका भी घर गाँव में ही था । घर में माँ -बाबूजी और मुझसे चार छोटे भाई बहन थे।  बाबूजी  लकड़ियाँ काटकर कर बाजार में  बेंचा करते थे, तो माँ लोगो के घरों मे काम किया करती थी।  जब मै  तेरह साल की थी , तभी मेरी माँ का निधन हो गया ।  अब घर में कमाने वाले सिर्फ बाबूजी थे । परिवार बड़ा था इसलिए बाबूजी का अकेले कमा कर  घर का खर्च चला पाना मुस्किल  था । इसीलिए थोड़े दिनों बाद बाबूजी  मुझे भी साथ लेकर काम पर जाने लगे । जब मै बाबूजी के साथ काम पर जाती तो लोग बाबूजी को बोलते की रामसुख तुम्हारी बेटी तो बहुत सुन्दर है । ऐसी फूल जैसी बेटी से काम क्यों करवाते हो ।
तो बाबूजी बोलते की क्या करें सुन्दर होने से पेट थोड़े ही न भरता है । भूंखे और गरीब  के लिए सुन्दरता के कोई मायने नहीं होते । अगर भगवन ने इसे मजदूर के घर जन्म दिया है तो काम तो करना ही पड़ेगा । जब मै थोडा और बड़ी हुई तो मेरा रास्तों से निकलना मुस्किल हो गया । रास्तों   से निकलती तो लड़के तरह -तरह की फब्तियां  कसते थे ।
मेरी खूबसूरती को ग्रहण तब लग गया जब गाँव के ही एक लड़के बबन की निगाह मुझपर पड़ी । यह बबन कोई और नहीं बल्कि यही  लड़का था जो आज तुम्हारे पीछे पड़ा था । यह एक आवारा  किस्म का लड़का है । दिन भर गाँव में इधर उधर घूमना । अनायस ही लोगो से लड़ाई झगडा करना , रास्ते से निकलती हुई लडकियों को छेड़ना इसका पेशा है ।
अब बबन मुझे भी परेशन करने लगा था । कभी मुझे रास्ते में रोकता तो कभी मेरा दुपट्टा खींच  लेता। मै परेशान  थी की , मै  क्या करूं । अगर मैंने किसी को बताया तो मेरी बेइज्जती होगी।  इसी डर  के मारे मै  किसी  से कुछ नहीं बोलती थी ।
लेकिन एक दिन तो हद हो गयी । मै  जंगल में लकड़ी काटने गयी थी । तभी मोहन वहां अपने एक दोस्त के साथ आया, और पैसे का प्रलोभन देते हुए कहा की अगर मै उसके मन की इच्छा पूरी करने दूँ तो वह मुझे पैसे से मालामाल कर देगा । लेकिन मैंने मना किया और उसे भला बुरा कहकर उसे वहाँ  से चले जाने के लिए कहा ।
"लेकिन वो नहीं माना "
उसके बाद वो मेरे साथ जबरदस्ती करने लगा । उन दोनों ने मिलकर मेरे कपडे फाड़ दिए । मै किसी तरह शोर मचाते हुए वहां से भागने में कामयाब हो गयी । और घर आकर सारी बात बाबूजी को बताई । तो बाबूजी ने इसकी शिकायत गांव के प्रधान जी  से की ।
प्रधान जी ने रात में ग्राम सभा बुलाई । पंचायत में सभी लोग आये । लेकिन वहां पर मेरे साथ न्याय होने के बजाए  सारा आरोप मुझपर ही थोप दिया गया । मुझपर यह इल्जाम लगाया गया कि जंगल में मैंने ही बबन को पैसे ऐठने के लिए बुलाया था लेकिन जब शरीफ बबन  इसके लिए तैयार नहीं हुआ तो मैंने खुद अपने कपडे फाड़कर  उस पर बलात्कार का आरोप लगा दिया ।
यहाँ तक तो ठीक था । लेकिन  उन लोगों ने भरी सभा में  मेरे बारे और भी पता नहीं  न जाने  में क्या क्या कहा ।  जैसे   किसी ने कहा की मेरी जवानी अब मुझसे सम्हल  नहीं रही  , तो किसी ने कहा की यह गाँव में व्यभिचार फैला रही है । इसके कारण  ही गाँव के लड़के बिगड़ रहे है । इस तरह के आरोप मुझ पर लगाये गए ।
उसके बाद प्रधान जी ने मुझे  गाँव से बहार जंगल में घर बना कर रहने की सजा दी । जिससे इस तरह की समस्याये मेरे कारण  गाँव में पैदा न हो । यह सुनकर वे लोग कुछ ज्यादा ही खुस हुए जो यह कह रहे थे की मै  गाँव के लडको को बर्बाद कर रही हूँ । और मुझे यह भी हिदायत दी गयी की, मै  अब कभी भी  इस गाँव की दहलीज पर कदम न रखूं । मुझे गाँव के अंतर्गत आने वाले  जलासयों से पानी भी भरने के लिए मना किया गया ।
खैर उसके बाद बाबूजी हम बच्चों को लेकर गाँव से बाहर, यही जंगल में  घर बनाकर रहने लगे । मै बाबूजी के साथ अब दूसरे गाँवो  में मजदूरी के लिए  जाने लगी । लेकिन थोड़े दिनों बाद  बाबूजी बीमार पड़ गए तो मै  अकेले ही मजदूरी करने  के लिए जाने लगी।
"एक दिन रास्ते में जाते वक्त  बबन मुझे फिर से मिला। उसने मुझे अकेला पाकर  अपने मंसूबो को वो अंजाम दिया , जिसे वह बहुत दिनों से पूरा नहीं कर पाया था । मै  भी  चीखी, चिल्लाई ,रोई लेकिन  कुछ भी न कर पाई । और तब से लेकर आज तक मई उसकी वासना का शिकार बन रही हूँ । जब भी  उसका मन करता है मनमानी करके चला जाता लेकिन मै  कुछ भी नहीं कर पाती । कौन है मेरी सुनने वाला .....कोई भी नहीं .......। अब तो लोग मुझे उसकी रखैल के नाम से भी जानने लगे है।  इसी कारण आज  मेरे समाज का कोई भी  लड़का मुझसे शादी करने को तैयार नहीं है । इतना कहकर अनीता फफक फफक कर रोने लगी ।
नीलम ने उसे गले से लगाकर ढाढस बंधाया । लेकिन वो खुद भी रो रही थी ।
उसे हैरानी हो रही थी अपने प्रधान मामा के न्याय पर जो उन्होंने एक गरीब लड़की को दरिंदो के जुल्म का शिकार होने के लिए जंगल में घर बना कर रहने का फरमान सुना दिया । नीलम को लगने लगा था की मेरे मामा भी अनीता की दुर्दशा के लिए उतने ही जिम्मेदार है जितना की बबन ।
नीलम ने अनीता के आँसू पोछते हुए कहा की अनीता आज तुम भी मेरे साथ गाँव चलोगी । अब तुम मुझे अपनी बहन समझो । तुम्हे कुछ नहीं होगा अब ।
अनीता ने कहा : लेकिन नीलम मेरे खातिर तुम परेशानी मत उठाओ तुम अकेले ही घर जाओ । मै नहीं चाहती की मेरे कारण तुम्हे तुम्हे कोई समस्या हो ।
नीलम : नहीं अनीता तुम्हारे साथ जो अत्याचार हुए है और हो रहे है । अब नहीं होंगे उनसे तुम्हे छुटकारा दिलाना अब मैंने अपना फ़र्ज़ मान लिया है । आखिर तुम लोगो ने भी तो मुझे उस दरिंदे से बचाया है आज ।  इसलिए आज तुम मेरे साथ मेरे घर चलो । तुम्हे कुछ नहीं होगा । मेरा भरोषा करो अनीता ।"
   ""नीलम के भरोषा दिलाने के बाद अनीता नीलम के साथ गाँव में उसके घर गयी । वहां पहुंचकर उसने  देखा की नीलम के घर में नीलम की उपस्थिति न होने के कारन घर में कुहराम मच हुआ है । लेकिन नीलम को देखते ही सब लोगो की जान में जान आ गयी । वे लोग दौड़कर नीलम के पास आये । और खैर खबर पूछने लगे । लेकिन प्रधान जी ने जब नीलम के बगल में अनीता को खड़ा  देखा तो उनकी भौहें गुस्से से तन गयी । और कड़कती अवाज में कहा की तू नीच लड़की यहाँ पर क्या कर रही है ।
"तभी बीच में ही नीलम बोल पड़ी मामा जी अब आप इसे नीच मत बोलना , क्यूंकि जिसे आप नीच बोल रहे हैं आज उसी की वजह से आपकी इज्जत नीची होते-होते बची है । और उसके बाद  नीलम ने सारी दास्तान अपने  मामा जी को  सुना दिया।
यह सब सुनकर प्रधान जी अंतरात्मा उन्हें अंदर से झकझोर उठी । वे आज सच्चे मायने में इंसान बन चुके थे । उन्हें अपने किये पर बहुत पछतावा हो रहा था ।
लेकिन पछतावा बस करने से उनके पापी कर्मो का अंत नहीं हो सकता  । यह सोचकर उन्होंने अनीता और उसके पिता से माफ़ी मांगते हुए उन्हें सम्मान सहित गाँव में फिर से बसाया । उन्होंने एक अच्छा लड़का देखकर अनीता की शादी करवाई और कन्यादान उन्होंने स्वयं अपने  हाथ से किया ।
उसके बाद उन्होंने बबन को क़ानूनी सजा दिलवाई । और आज अनीता अपने घर परिवार गाँव में जहाँ खुशहाल  जिंदगी बिता रही है वही  बबन जेल की सलाखों के पीछे जिंदगी काट रहा है ।
::::::::::::::::--------------------समाप्त ..........................:::::::::::::::::::::::::::












 

 

Ijjat Meri Bhi

Short Stories 0

Explore →
Tumbhi blog

Why should you..

Why should you bring some ART home?



read blog
tumbhi advisors

L C Singh

Member, Film Writers Association, Mumbai Playwright and Author - feature film..
advisors
USERSPEAK
No Image

amit verma

Kabhi fursat mili to tujhse bhi rubroo honge zindagi, Abhi mashgool ho zindagi banane me,

testimonials
GO